मदीना मुनव्वरा

तुफाने नूंह के बाद हजरत नूह के पर पोते इमलाक बिन अरफख्शज बिन साम बिन नूह यमन में बस गए थे | अल्लाह तआला ने उन को अरबी जबान इलहाम की, फिर उन की औलाद ने आरबी बोलना शुरू कर दिया, यह अरब के इलाकों में चारों तरफ फैले, इस तरह पुरे जजीरतुल अरब में अरबी जबान आम हो गई,
उसी जमाने में मदीना की बुन्याद पडी, इमलाक की औलाद में तुब्बा नामी एक बादशाह था, जिस ने यहुदी उलमा से आखरी नबी की तारीफ और यसरीब ( मदीना ) में उन की आमद की खबर सुन रखी थी, इस लिये शाह तुब्बा ने यसरीब में एक मकान हुजूर सल. के लिये तय्यार कर के एक आलिम के हवाले कर दिया और वसिय्यत की के यह मकान नबीए आखिरूज जमाँ की आमद पर उन्हें दे देना, अगर तुम जिन्दा न रहो तो अपनी औलाद को इस की वसिय्यत कर दैना, चुनान्चे हुजूर सल. की ऊँटनी हजरत अबू अय्युब अन्सारी के मकान पर रुक थी, हजरत अबू अय्युब उन आलिम ही की औलाद में से थे, जिन को शाहे तुब्बा ने मकान हवाले किया था, साथ ही शाह तुब्बा ने एक खत भी हुजूर सल. के नाम लिखा, जिस में आप सल. से मुहब्बत, ईमान लाने और जियारत के शौक को जाहिर किया था | हुजूर सल. की हिजरत के बाद यसरिब का नाम बदल कर “मदीनतुर रसूल” यांनी रसूल का शहर रख गया |

Comments

Popular posts from this blog

जुलकरनैन

हजरत युसूफ की नुबुव्वत व हुकूमत

हजरत याकूब