हजरत मरयम की आजमाइश Hazrat Marym ki Aajmaish


          हजरत मरयम की आजमाइश  Hazrat Marym ki Aajmaish 
हजरत मरयम बिन्ते इमरान बनी इस्राईल के एक शरीफ घराने में पैदा हुई, कुर्आन में १२ जगह उन का नाम आया हैं और उन के नाम से एक मुकम्मल सुरह अल्लाह तआला ने नाजील फर्माई है, उन के वालीद हजरत इमरान बैतुलमक्दिस के इमाम थे | 

हजरत मरयम बचपन ही से बडी नेक सीरत थी | अल्लाह तआला ने उस वक्त की तमाम औरतों पर उन्हें फजीलत आता फर्माई थी, पैदाइश के बाद उन की वालीदा ने अपनी मन्नत के मुताबिक उन के खालु हजरत जकरिया की कफालत में बैतुलमक्दिस की इबादत के लिये वक्फ कर दिया और ऊँची जगह पर एक कमरा उन की इबादत के लिये खास कर दिया | वह हर वक्त इबादत और जीक्रे इलाही में मशरुफ रहतीं, अल्लाह तआला ने गैबी तौर पर बगैर मौसम के उम्दा फलों के जरिये उन की नशोनुमा और परवरीश फर्माई |

जब हजरत मरयम बडी हो गई, तो अल्लाह तआला ने फरिश्ते के जरीये बशारत दी के तुम्हें एक बेटा अता किया जाएगा जिस का नाम ईसा होगा वह दुनिया व आखीरत में बुलन्द मर्तबे वाला होगा और बचपन हि में लोगों से बात कर के आप की पाक दामनी की शाहदत देगा |   

Comments

Popular posts from this blog

जुलकरनैन

हजरत युसूफ की नुबुव्वत व हुकूमत

हजरत याकूब