कौमे बनी इस्राईल पर अल्लाह के इनामात kaume bani israil pr allah ke inamat

   कौमे बनी इस्राईल पर अल्लाह के इनामात   
जब फिरऔन और उस की कौम की तबाही के बाद हजरत मूसा और बनी इस्राईल ने बहरे कुलजुम पार कर लिया, तो अल्लाह तआला ने उन्हें अपने वतन फलस्तीन जाने का हुक्म दिया, जिन पर कौमे अमालेका ने कब्जा कर लिया था, मगर बनी इस्राईल कौमे अमालेका की जंगी कुव्वत व ताकत की वजह से मुकाबला करने की हिम्मत न कर सके, इस बुजदिली पर अल्लाह तआला ने चाळीस साल तक मैदाने तीह में भटकते रहने की सजा दी, जो कोहे तूर के शिमाल में और सेहराए सीना के जुनूब में वाके है |
अल्लाह तआला ने इस जलीलुलकद्र नबी की बरकत से बारा कबीलों के लिये बारा चश्मे जारी कर दिये | सख्त गर्मी से बचने के लिये बादल का साया और खाने के लिये मन व सलवा नाजिल फर्माया | मगर बनी इस्राईल नाशुक्री करने लगे और मन व सलवा जैसी नेअमतों को छोड कर साग सब्जियों का मुतालाबा करने लगे | फिर जब उन मे मुतालाबे पर हजरत मुसा तौरात लेने कोहे तूर पर गए, तो उन लोगों ने बछडे को माबूद बना कर उस की पूजा शुरू करदी | इस शिर्क व बुत परस्ती की माफी और तौबा के लिये एक दुसरे को कत्ल का हुक्म दिया गया, जिस के नतीजे में तीन हजार या सत्तर हजार अफराद कत्ल किये गए | गर्ज नाफरमानियों की वजह से यह कौमे चालीस साल तक अर्जे मुकद्दस ( फलस्तीन ) में दाखिल न हो सकी |                                                                                                                                                                       
          

Comments

Popular posts from this blog

जुलकरनैन

हजरत युसूफ की नुबुव्वत व हुकूमत

हजरत याकूब