जुलकरनैन

                   जुलकरनैन
कुर्आने करीम के सूर-ए-कहफ में एक ऐसे बादशाह का तजकेरा किया गया है, जिन का लकब “जुलकरनैन” है, वह बहुत नेक दिल बादशाह थे | उन्हीं की बदौलत बनी इसराईल ने बाबुल की गुलामी से नजात पाई थी और यरोशिलम (बैतुलमकदिस) जैसी मुहातरम जगह हर किस्म की तबाही व बरबादी के बाद उन्हीं के हथों दोबारा आबाद हुआ था |
  उन्होंने मश्रीक व मगरीब का सफर किया और फुतूहात भी की | एक मर्तबा सफर के दौरान एक कौम से मुलाकात हुई जिन्होंने बादशाह जुलकरनैन से याजूज व माजूज के फितना व फसाद की शिकायत की और कहा : ऐ जुलकरनैन ! उन लोगों से हमारी हिफाजत के लिये एक दिवार काएम कर दीजीये | उस पर आप जो मुआवजा लेना चाहेंगे हम देने के लिये तय्यार हैं | 
  लेकिन जुलकरनैन ने मुआवजा लेने से इन्कार कर दिया और कहा : अल्लाह ने जो कुछ मुझे दिया हैं वह मेरे लिये काफी है | फिर उन्होने एक मजबूत दीवार काएम कर दी, जो सद्दे सिकंदरी के नाम से मशहूर है |                                                                                                                                                                                             
                                                                

Comments

Popular posts from this blog

हजरत युसूफ की नुबुव्वत व हुकूमत

हजरत याकूब