फरिश्ते अल्लाह की मख्लूक हैं

   
         फरिश्ते अल्लाह तआला की मख्लूक हैं, जो नुर से पैदा हुए हैं | वह हमारी नजरों से गाएब हैं |
कभी अल्लाह की नाफर्मानी नही करते | अल्लाह तआला ने उन को मुख्तलीफ कामों पर लगा रखा है, वह हर वक्त उन्ही कामों में लगे रहते हैं | फरिश्ते बेशुमार हैं, उन की सही तादाद अल्लाह तआला ही को मालूम हैं, उन मे चार फरिश्ते मशहुर व मुकर्रब हैं 


(१) हजरत जिब्रईल जो अल्लाह की किताबें और अहकामात पैगम्बरों के पास लाते थे | 
(२) हजरत इसराफील जो कयामत में अल्लाह तआला के हुक्म से सूर फुँकेंगे | 
(३) हजरत मीकाईल जो बारीश का इन्तेजाम करने और मख्लूक को रोजी पहुँचाने पर मुकर्रर हैं |
(४) हजरत इजराईल जो मख्लूक की जान निकालने पर मुकर्रर हैं | 
इसी तरह इन के अलावा भी बहुत सारे फरिश्ते हैं, जो अल्लाह तआला की हम्द व सना और उस की पाकी बयान करने में लगे रहाते हैं |       
                                      

Comments

Popular posts from this blog

जुलकरनैन

हजरत युसूफ की नुबुव्वत व हुकूमत

हजरत याकूब